Category Archives: Lehman brothers’s story and start of world’s biggest bankruptcy in America

लीमेन ब्रदर्स की कामयाबी और दिवालिया होने तक की दास्तान


लीमेन ब्रदर्स यह ऎसा नाम है.. जो आर्थिक क्षेत्र के विश्व इतिहास के पन्नो पर दर्ज है। सिर्फ़ इसलिये नही कि इस वित्तिय व्यवसाय करने वाले ग्रुप ने अपने प्रयासो द्वारा वित्तीय क्षेत्र की बडी और नामी गिरामी कंपनी के रूप में अपने आपको स्थापित किया बल्कि इसलिये भी कि लीमेन ब्रदर्स ने किस तरंह कर्ज के बोझ तले दबकर अपने आपको दिवालीया घोषित किया।

सन 1844 के आस-पास हेनरी लीमेन नाम के एक जर्मनी के शक्स ने अमेरिका के अलबामा की ओर पलायन किया और वहीं बसकर एक वस्तुओं के स्टोर की शुरूआत की। देखते ही देखते उन्नती होती गई। धीरे-धीरे हेनरी के दोनो भाई इमेनुआल लीमेन और मेयर लीमेन भी अमेरिका आ गये। सन 1850  में तीनो भाईयों ने मिलकर एक लीमेन-ब्रदर्स नाम की वित्तीय कंपनी की स्थापना। उस दौर में कपास का उत्पादन अच्छी तादाद में हुआ करता था। लीमेन ब्रदर्स ने अपने ग्रहाको से भुगतान रूप में कपास लेना स्वीकार कर लिया। तभी से ही कपास के क्षेत्र से भी लीमेन ब्रदर्स कंपनी जुड गई। जब कपास का व्यवसाय केंद्र न्यूयोर्क बना, तो लीमेन ब्रदर्स ने भी अपनी कंपनी का एक ओफ़िस न्यूयोर्क में खोला।

1855 के आस-पास हेनरी लीमेन की किसी बिमारी से मौत हो गई। कंपनी का सारा कामकाज़ इमेनुअल लीमेन और मेयर लीमेन के हाथो में आ गया था। अब इमेनुअल लीमेन और मेयर लीमेन ब्रदर्स ने मिलकर न्यूयोर्क में कपास के व्यापार में और संभावनाये तलाशते हुये, एक कपास बाज़ार की स्थापना की।

कॉफ़ी व्यापार क्षेत्र में भी लीमेन ब्रदर्स ने हाथ आजमाया। जो काफ़ी हद तक सफ़ल भी रहा। अगले कुछ वर्षो में लीमेन ब्रदर्स ने अपनी कंपनी का मुख्यालय न्यूयोर्क में स्थापित कर लिया था। 1906  तक लीमेन ब्रदर्स ने एक अन्य वित्तीय कंपनी गोल्डमेन सैक्स के साथ मिलकर, एक गारंटर की भूमिका निभाते हुये, विभिन्न कंपनीयों को शैयर बाज़ार में उतारना शुरू किया।

जब 1929-1930  में पूरे विश्व में आर्थिक संकट अपना कहर बरपा रहा था तो उसी दौरान लीमें ब्रदर्स की कंपनी दिन-दौगुनी और रात चौगुनी व्रद्धी कर रही थी। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान विश्व अर्थव्यवस्था ने मंदी से उबरते हुये काफ़ी अच्छे स्तर को प्राप्त किया था।
इसी प्रकार लीमेन ब्रदर्स के व्यवसाय ने भी जोर पकडा। लीमेन ब्रदर्स लगातार विकास की ओर तेजी से बढते ही जा रहे थे। 19वी सदी के अंत तक लीमेन ब्रदर्स  रेलवे में भी पैसा लगाया।

धीरे-धीरे लीमेन ब्रदर्स ने रिटेल,रेडियो-टीवी, घरेलू उपकरणों आदी सेक्टरो में निवेश करना प्रारम्भ कर दिया। लेकिन खासकर सूचना के क्षेत्र में निवेशक के रूप में लीमेन ब्रदर्स की एक महत्वपूर्ण भूमिका रही। इसी प्रकार लीमेन ब्रदर्स कंपनी ऊचाईंयों के शिखर तक बढती जा रही थी। जब लीमेन ब्रदर्स ने पूरे दिनियाभर में अपनी कंपनी की स्थापना करते हुये बम्बई में अपनी शाखा की स्थापकी तो लीमेन ब्रदर्स का साम्राज्य करीब 175 अरब डोलर आंका गया।

पर शोहरत और विकास के जिस ऊंचे स्तर तक लीमेन ब्रदर्स कंपनी पहुंच चुकी थी। इसका किसी को अन्दाजा नही था कि यह अरबो-खरबो डोलरो का साम्राज्य इतनी जल्दी से ध्वस्त हो जायेगा। सन 2007, एक ऎसा समय था, जब अमेरिका पर भारी वित्तीय संकट गहराता जा रहा था। सब प्राइम’ तब हुआ जब एक-दूसरे को पछाड़ने की होड़ में अमरीकी वित्त कंपनियों ने ऊँची ब्याज दरों पर खरबों डॉलर का कर्ज़ ऐसे लोगों को दे दिया जो उसे वापस करने के क़ाबिल नहीं थे। जिससे  लीमेन ब्रदर्स जैसी कंपनीयों के ऊपर भारी वित्तीय संकट मंडराने लगा, जिसने पूरे अमेरिका को ही नही बल्कि पूरे विश्व को सोचने को मजबूर कर दिया और एक दिन ऐसा आया जब लीमेन ब्रदर्स की कुल आमदनी घटकर उस स्तर तक आ गई कि कंपनी को आगे ले जाअ पाना बहुत मुश्किल हो गया था। ऊपर से कर्ज का बौझ भी लगातार बढता जा रहा था।

सन 2008 दौरान पूरे विश्व में आर्थिक संकट ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया था।  भारत पर खासकर इस आर्थिक संकट का असर दिखा। क्योंकि कई अमेरिकी कंपनीयों ने भारत में विभिन्न क्षेत्रों में निवेश किया हुआ था। जब अमेरिकी कंपनीया आर्थिक संकट से जूझ रही थी तो, कई कंपनीयों ने  निवेश की निकासी शुरू कर दी, जिससे रीयल स्टेट क्षेत्र में नुकसान हुआ था। भारतीय स्टेट बैंक, रीलाईंस पावर जैसी कंपनीयो को भी काफ़ी नुकसान उठाना पडा। जिससे भारत में कर्मचारीयों की छटनी शुरू हो गयी और बैरोजगारी की समस्या ने अपना मुंह फ़ाडना शुरू कर दिया था।

Advertisements

Leave a comment

Filed under Lehman brothers's story and start of world's biggest bankruptcy in America