Poetry

copyrighted all poetry…..

“AIM”

I prefer to you as a dier want alive

And will be preferring always

Till the end of life,

Will be wanting you

Until I’ll get you

Were I am a astrologer

Which I can see mine future

And through the scene of mine future

I make a planning to gain you

I often am a puzzler to gain you and uncomforted

Hence, I prefer to you as loser of life want alive.


Written by A.K

“मगंल पाण्डेय”

जो मरा नहीं अमर है,
किताबो में उसका घर है,
उसके लिये हमारी आखें नम हैं।

जो करा काम कल,
शुक्रिया भी कहना कम हैं।

क्या हमारे अन्दर इतना दम हैं,
दम नही तो क्या हम- हम हैं,
जो दूसरो के लिये क्या वही कर्म हैं।

कोई है जो कहे मगंल पाण्डेय  हम हैं,
बस इसी बात का तो गम है,
आज अन्धकार तो सवेरा कल है।

जिधर नजर… वहां अलग एक दल है,
आज इसी बात का तो डर हैं,
देश सबका ही तो घर है,
फ़िर क्यों सब तरफ़ दल-दल हैं।

उसकी बदोलत हम मुक्त हैं,
जो मरा नहीं अमर है,
किताबो में उसका घर है..
किताबो में उसका घर है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s